अद्वितीय उपलब्धि : टोक्यो ओलंपिक्स में KIIT के चार प्रतिनिधि

25

अद्वितीय उपलब्धि : टोक्यो ओलंपिक्स में KIIT के चार प्रतिनिधि

भुवनेश्वर, भारत, 6 जुलाई, 2021 /PRNewswire/ — KIIT की ओर से आगामी ओलंपिक में तीन एथलीटों- दुती चंद, सीए भवानी देवी और शिवपाल सिंह और KIIT डीम्ड यूनिवर्सिटी के स्पोर्ट्स मेडिसिन चिकित्सक डॉ सुदीप सत्पथि प्रतिनिधित्व करेंगे. KIIT भारत का एकमात्रा विश्वविद्यालय है जिसके तीन एथलीट और एक अधिकारी (डॉक्टर) टोक्यो ओलंपिक खेलों में प्रतिनिधित्व करेंगे. ओलंपिक खेल 23 जुलाई 2021 से शुरू होने वाला है. यह जानकारी डॉ अच्युता सामंत, संसद सदस्य (लोकसभा) और संस्थापक, KIIT व KISS ने दी. 

भुवनेश्वर में एक राष्ट्रीय वर्चुअल पत्रकार सम्मेलन में पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुए डा सामंत ने कहा कि KIIT और KISS में खेलों को व्यापक रूप से प्रोत्साहित कर  इस तरह के अद्वितीय गौरव को प्राप्त करने प्रति सक्षम हैं. उल्लेखनीय है कि KISS ने राज्य, राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर 5000 से अधिक खेल प्रतिभाओं को बनाया है, जिनमें अंतरराष्ट्रीय खेलों जैसे राष्ट्रमंडल खेलों, एशियाई खेलों और विश्व यूनिवर्सिटी खेलों में देश के लिए पदक लेकर आए विजेता शामिल हैं. KIIT के कई छात्रों ने विभिन्न राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय खेलों में अपने प्रदर्शन से संस्थान, राज्य और देश का नाम रोशन किया है.

डॉ सामंत ने कहा कि KIIT की लॉ की छात्रा दुती चांद के लिए यह लगातार दूसरी ओलंपिक उपस्थिति होगी, जिन्होंने अपनी विश्व रैंकिंग के आधार पर दो स्पर्धाओं – महिलाओं की 100 मीटर और 200 मीटर स्प्रिंट में क्वालीफाई किया. अर्जुन पुरस्कार विजेता एथलीट और 100 मीटर में 11.17 सेकेंड के समय के साथ राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाने वाली दुती के करियर का मुख्य आकर्षण 2018 एशियाई खेलों में दो रजत पदक जीतना रहा है. वह दो बार ओलंपिक में दो इवेंट्स में हिस्सा लेने वाली एकमात्र भारतीय हैं.

सी. ए. भवानी देवी, KIIT में पीएच.डी कर रही हैं. वह ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करने वाली पहली भारतीय फेंसर हैं. उन्होंने 14 मार्च 2021 में हंगरी में विश्व कप के बाद, समायोजित ओलंपिक रैंकिंग के माध्यम से टोक्यो 2020 ओलंपिक में महिलाओं की कृपाण स्पर्धा में योग्यता हासिल की. 2018 में ऑस्ट्रेलिया में सीनियर कॉमनवेल्थ फेंसिंग चैंपियनशिप सेबर इवेंट में उन्होंने स्वर्ण पदक जीता और विश्व में 42वें स्थान पर रहकर इतिहास रचा.

जैवलिन थ्रोवर शिवपाल सिंह, KIIT में बीबीए के छात्र, ने 9 मार्च 2021 में दक्षिण अफ्रीका में एसीएनडब्ल्यू लीग मिटिंग में 85.47 मीटर के थ्रो के साथ क्वालिफिकेशन मार्क को तोड़कर अपने पहले ओलंपिक खेल में जगह बनाई. इस थ्रो के साथ उन्होंने स्वर्ण पदक भी जीता. जानेमाने जैवलिन थ्रोवर नीरज चोपड़ा के साथ वह भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे.

KIIT के लिए एक और गौरवपूर्ण उपलब्धि में, कलिंगा इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (KIMS) के डॉ. सुदीप सत्पथी को टोक्यो ओलंपिक 2021 में भारतीय पुरुष हॉकी टीम के डॉक्टर के रूप में चुना गया है. स्पोर्ट्स एंड एक्सरसाइज फिजियोलॉजी सहित क्लिनिकल फिजियोलॉजी के विशेषज्ञ  डॉ. सत्पथी को अतीत में भी कई ओलंपिक मिट में जाने का मौका मिला है, जिसमें रियो ओलंपिक 2016 पॉलीक्लिनिक और एथलीट पार्क में स्पोर्ट्स मेडिसिन डॉक्टर के रूप में नियोडित थे.

श्री. तुषारकांति बेहरा, माननीय मंत्री, खेल और युवा सेवाएं और इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी, ओडिशा सरकार इस वर्चुअल फेलिसिटेशन एंड इंटरेक्शन समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए, जबकि श्री विशाल कुमार देव, आईएएस, प्रमुख सचिव, खेल और युवा सेवाएं और पर्यटन विभाग, ओडिशा सरकार, विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित थे. अवसर पर डॉ. सस्मिता सामंत, प्रो-वीसी, KIIT डीम्ड यूनिवर्सिटी ने भी पत्रकारों से बातचीत की.

इस अवसर पर डॉ. सामंत ने दुती चंद के लिए दो महत्वपूर्ण उपहारों की घोषणा की, जो उन्हें ओलंपिक से लौटने के बाद भेंट किये जाएंगे. डॉ सामंत ने कहा कि KIIT और वह खुद व्यक्तिगत रूप से 2013 से दुती के अच्छे और बुरे समय के दौरान उनके साथ रहे हैं, भविष्य में भी दुती का साथ देते रहेंगे. डॉ गगनेंदू दाश, निदेशक-खेल, KIIT ने एथलीटों की जानकारी दी. मौके पर खेल प्रेमियों और KIIT और KISS के कर्मचारी बड़ी संख्या में उपस्थित रहे.

कलिंग औद्योगिक प्रौद्योगिकी संस्थान के बारे में

कलिंग इंस्टीट्यूट ऑफ इंडस्ट्रियल टेक्नोलॉजी (केआईआईटी) डीम्ड टू बी यूनिवर्सिटी, भुवनेश्वर भारत के सबसे अधिक मांग वाले विश्वविद्यालयों में से एक है, जो पेशेवर और तकनीकी शिक्षा को आगे बढ़ाने के लिए पूरे भारत और 53 से अधिक देशों के छात्रों को आकर्षित करता है। इसने करुणा और मानवता के सिद्धांतों पर आधारित सबसे अधिक छात्र-हितैषी विश्वविद्यालय के रूप में अपनी प्रतिष्ठा बनाई है। प्रतिष्ठित शिक्षाविद् और सामाजिक कार्यकर्ता प्रो. अच्युत सामंत द्वारा 1992-93 में एक मामूली व्यावसायिक प्रशिक्षण केंद्र के रूप में स्थापित, इसने 1997 में उच्च शिक्षा के केंद्र के रूप में आकार लिया, जिसे आधार वर्ष माना जाता है। तब से केआईआईटी ने शिक्षा के प्रत्येक क्षेत्र में एक उच्च बेंचमार्क स्थापित करते हुए तेजी से विकास किया है।

Media Contact :
Dr. Shradhanjali Nayak
director.pr@kiit.ac.in
+91-9437020240
Director, PR
Kalinga Institute of Industrial Technology

Photo: https://mma.prnewswire.com/media/1557807/KIITinOlympics.jpg

SOURCE Kalinga Institute of Industrial Technology

दोस्तों, अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी तो पेज नीचे दिए गए बटन लाइक (लाइक), शेयर (शेयर) और फॉलो (करें) करें और इस पोस्ट को अपने दोस्तों, परिवार और अपने साथ काम करने वाले सहकर्मियों के साथ साझा करें, और अधिक स्वास्थ्य से संबंधित न्यूज़ों और लेखों के अपडेट्स पाने के लिए हमारे पेज पर आते हैं।

(This News has not been edited by the Life Care team, it is published directly from the agency feed.)

Legal Disclaimer

LifeCareNews.in provides the information “as is” without warranty of any kind. We do not accept any responsibility or liability for the accuracy, content, images, videos, licenses, completeness, legality, or reliability of the information contained in this article. If you have any complaints or copyright issues related to this article, kindly contact the provider above.

 

Also Read This

Comments